कश्मीर के मखदूम साहिब: नैतिकता-आधारित आध्यात्मिकता की एक बौद्धिक विरासत 

ग़ुलाम रसूल देहलवी (grdehlavi@gmail.com)

WordForPeace.com

कश्मीर के हम्जा मखदुम, जोकि “मखदुम साहिब” और “सुल्तान-उल-आरिफ़िन (वास्तविक संतों के राजा) के रूप में लोकप्रिय हैं, उन्हें घाटी में “विश्व के लिये प्रिय” (महबूब-उल-आलम) के रूप में माना जाता है। 16 वीं शताब्दी के अग्रणी कश्मीर में सुहरवर्दी  सूफी सिलसिले के संस्थापक चंद्रवंशी राजपूत परिवार से थे और उनका जन्म बारामूला जिले के सोपोर के पास एक गाँव में हुआ था। उनकी आध्यात्मिक धर्मशाला (खानकाह)  हरि परबत (कोह-ए-मरन) के शीर्ष पर है, जो कि श्रीनगर के सबसे खूबसूरत हिस्से का नज़ारा पेश करता है।

कई इतिहासकारों के अनुसार, मखदुम साहिब का परिवार कांगड़ा के राजपूत शासकों के वंशज थे, रामचंद्र के माध्यम से – राजा सुहदेव की सेना में सेनापति, कश्मीर के अंतिम हिंदू शासक, और कश्मीर के पहले मुस्लिम राजा रिनचेन शाह के दरबार में मंत्री थे|

मखदूम साहिब का पूरा वंश एक बौद्धिक विरासत और एक नैतिकता-आधारित आध्यात्मिकता (तरिक्त) के लिए जाना जाता था। बचपन में, उनके पिता उस्मान रैना, खुद एक प्रशंसित (विद्वान) ने उन्हें पढ़ाया और फिर उन्हें अपने गाँव में एक मकतब में दाखिला दिलाया। बाद में, उनके दादा रेटी रैना, उन्हें श्रीनगर ले गए  जहाँ उन्होंने कुरान, हदीस, कलाम (दर्शन), फ़िक़ह (न्यायशास्त्र) से लेकर श्रीनगर के डार अल-शिफ़ा में शास्त्रीय इस्लामी विज्ञानों का अध्ययन किया। वहाँ, मखदुम साहब ने 14 विभिन्न सूफी शाखाओं में ज्ञान प्राप्त किया, लेकिन अपने बाद के जीवन में,उनका झुकाव सुहरावर्दी सिलसिला (सूफी आदेश) के प्रति अधिक था और वो आज आध्यात्मिक रूप से लोकप्रिय “महबूबिया सिलसिला” के नाम से प्रसिद्ध हुए। एपीथेट महबूब-उल-आलम (दुनिया के लिय  प्रिय)। इस प्रकार, मखदूम साहिब घाटी में पहले संत बने जिन्होंने कश्मीर में ऋषियों और सूफियों के बीच आध्यात्मिक सह-अस्तित्व के लिए सामान्य जन- आधार को मजबूत किया।

महबूब-उल-आलम ने ज़िक्र-ए-क़ल्ब (ईश्वरीय स्मरण का आंतरिक अभ्यास) की नियमित साधना पर बल दिया। उन्हें ज़िक्र के बाहरी आडम्बर का विचार पसंद नहीं आया और इसलिए, उन्होंने सूफ़ी संगीत को केवल निर्धारित सीमा के भीतर ही प्रचारित किया। महबूब साहब को प्रचलित सामाजिक रीति-रिवाजों और भूत-प्रेतों में अन्ध-विश्वास और आत्माओं की पूजा जैसे कई अंधविश्वासों पर सवाल उठाने के लिए भी जाना जाता है। इसी तरह, उन्होंने सांसारिक जीवन के एकांत और त्याग के बारे में गैर-सुहरावर्दी आदेशों के विचार से सामंजस्य नहीं किया। उन्होंने कहा कि त्याग नग्न या सांसारिक जिम्मेदारियों का त्याग नहीं करता है। त्याग का उनका विचार वह था जिसमें एक साधक अपने पथ पर इस हद तक ईमानदार हो जाता है कि भारी धन भी बाधा में नही आता। वह घाटी में सबसे कठोर ऋषि-सूफियों में से एक थे जो मिलनसार और सुलभ भी थे। उनसे पहले, घाटी में सूफी फकीरों ने आम लोगों के साथ महत्वपूर्ण सामाजिक नेटवर्क नहीं बनाया था। लेकिन महबूब साहब ने सामाजिक स्तर पर एक मजबूत जन- आधार स्थापित किया और इस तरह सच्चे अर्थों में महबूब-उल-आलम (दुनिया के लिय प्रिय) बन गये।

महबूब साहब 35 साल की छोटी उम्र में ख़ुदा से जा मिले और उस वक़्त उन्होंने अपने सभी दांत खो दिए थे और उनके सारे बाल सफेद हो गए थे। वह कहते थे: “प्यार का दर्द (गम-ए-इश्क) मुझे बूढ़ा कर गया है”।

(अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद: पूजा कुमारी)

About admin

Check Also

Loving the Holy Prophet’s Family – An essential requirement of faith

WordForPeace.com  ▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄▄ By virtue of their relationship with Him, Allah the Almighty has accorded great …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *