रजा कोचिंग सेंटर का सराहनीय कदम, ‘रजा 40’ प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं की शिक्षा में करेगा सहयोग

7 मार्च, जमशेदपुर झारखंड के मुस्लिम बहुल क्षेत्र आज़ादनगर स्थित मदीना मकतब में हाजी मुख्तार सफ़ी की अध्यक्षता में सेमिनार का आयोजन किया गया। इसमें मुस्लिम बुद्धिजिवियों ने बड़ी संख्या में भाग लिया।  इस सेमीनार का विषय मुसलमानों को शैक्षिक पिछड़ेपन से निकालना था। समय की इस जरूरत को पूरा करने के लिए ” रजा 40”  की स्थापना की घोषणा की गयी। इसके उद्देश्य को परिभाषित करते हुए संस्था के संस्थापक व निदेशक मुफ्ती अब्दुल मालिक मिस्बाही (एम ए मैसूर, हैदराबाद) ने मुसलमानों के शैक्षिक पिछड़ेपन पर बड़े  विचारशील ढंग से प्रकाश डाला। हज़रत मुफ्ती साहब ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि ” रजा 40” का उद्देश्य शिक्षा के मैदान में मुस्लिम बच्चों को जागरूक करना, मुस्लिम बच्चों के लिए उच्च शिक्षा प्राप्त करने की राह आसान करना,  मुस्लिम बच्चों में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए जागरूकता की लहर दौड़ाना है। सरकार के उच्च पदों पर पहुंचने के लिए और सरकार के प्रशासनिक मामलों में खुद को साझा करने के लिए आई पी, एस (IPS) पी, एस, सी, (PSC) तथा आई आई टी (IIT) और मीडकील (Medical ) आदि की तैयारी के लिए प्रत्येक वर्ष चालीस (Forty) जरूरतमंद, बुद्धिमान और प्रतिभाशाली मुस्लिम बच्चों के रहने सहने और खाने पीने के प्रबंधन से लेकर फीस आदि का खर्च वहन करने की योजना है। मगर इस बीहड़ घाटी में कदम रखने से पहले बच्चों को मानसिक रूप से तैयार करने और लोगों को जागरूक करने के लिए एक उच्च श्रेणी के कोचिंग सेंटर बनाम “रजा कोचिंग सेंटर” का स्थापना की जा रही है। इसकी शुरुआत एक अप्रैल 2017 से होगी।

इस सेमीनार में तमाम लोगों की राय से श्री अल्हाज मोहम्मद अतालीक हुसैन को कोषाध्यक्ष का पद सौंपा गया। सेमिनार में मौजूद तमाम हजरात ने ” रजा 40” के संस्थापक व निदेशक मुफ़्ती अब्दुल मालिक मिस्बाही के इस कदम को खूब सराहा और अपने भरपूर सहयोग का वादा किया। इस बैठक में डॉ मंसूर, श्री आसिफ अली, श्री जावेद सिद्दीकी, डॉ अशरफ आलम साहिबान आदि ने अपने विचार प्रस्तुत किए और उपयोगी सुझावों से सम्मानित किया। इस सेमिनार में प्रोफेसर बदरुद्दीन, प्रोफेसर मंज़र हुसैन, सैयद शौकत अली, सैयद तनवीर अली, सैयद इरशादुल हक, अब्दुल ताहिर इंजीनियर, बिलाल इंजीनिय, मेराज उद्दीन वकील, अब्दुल रऊफ अंसारी, शफीक फिदाई, मास्टर यूनुस, मास्टर जफर इकबाल, मास्टर शौकत इस्लाम, अलहाज नसीर खान, अलहाज अब्दुल मोबिन, मोहम्मद नसीम अख्तर, मोहम्मद तौकीद सूरी, मोहम्मद अबरार अहमद, सोहेल अहमद खां, मोहम्मद इम्तियाज अहमद, मोहम्मद अबरार अहमद, सुहैल अहमद खान, मोहम्मद इम्तियाज अहमद, मोहम्मद इलियास, मोहम्मद असलम, हाफिज खुर्शीद रब्बानी, हाजी तसनीम, मोहम्मद अनीस, मोहम्मद शमसीर, मोहम्मद अबरार, मोहम्मद अली, मंजूर अहमद, मोहम्मद इमरान, फतह मोहम्मद, मोहम्मद रफीक, मोहम्मद खालिद रियाज, मोहम्मद शफी आदि मौजूद थे।

Check Also

Hindus in Rajasthan's border villages observe 'roza'

These Hindu families fast during Ramzan

Tabeenah Anjum, Jaipur   In a rare display of religious amity, several Hindus in villages …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *