Hindi Section

राष्ट्रीय एकता में हिंदी का महत्व

वर्षा शर्मा भारत देश कई विद्याओं का मिश्रण है। उसमे कई भाषाओँ का समावेश है। सभी भाषाओँ में हिंदी को देश की मातृभाषा का दर्जा दिया गया था। हिंदी आज दुनिया में सर्वाधिक बोले जाने वाली भाषाओँ में से एक है। इसे सम्मान देने के लिए हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस और राष्ट्रिय एकता दिवस मनाया जाता है। …

Read More »

ईद उल अजहा(बकर ईद): बलिदान और त्याग का प्रतीक

ईद+उल+अजहा(बकर+ईद)

वर्षा शर्मा, वर्ड फार पीस ईद-उल -अज़हा मुसलमानों का एक प्रसिद्ध त्यौहार है जिसे बकरीद अथवा ईद-उल-कबीर के नाम से भी जाना जाता है. यह त्यौहार बलिदान अथवा कुरबानी का प्रतीक है. हर साल यह मुस्लिम माह ज़ुल हिज्जा के दसवें दिन मनाया जाता है. प्यार का दूसरा नाम बलिदान है। ईश्वर इब्राहिम के विश्वास, उनकी निष्काम भक्ति, प्रेम और …

Read More »

तीन तलाक़ पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला: रूढ़िवादी प्रथा को जड़ से खत्म करने की कोशिश

तीन तलाक़

वर्षा शर्मा Wordforpeace हम स्वीकार करें ना करें, कड़वी सच्चाई यही है कि मुसलमानों ने तीन तलाक और हलाला जैसी ग़ैर-कानूनी और ग़ैर-कुरानी परंपरा को आस्था के नाम पर अपने समाज में फलने फूलने का भरपूर मौक़ा दिया। इस फैसले से सर्वोच्च न्यायालय ने पहली बार इस रूढ़िवादी प्रथा को जड़ से खत्म करने का प्रयास किया है, जो एतिहासिक …

Read More »

अजमेर दिल्ली सहित सभी दरगाहों पर याद किये गए आज़ादी के परवाने

By WordForPeace Correspondent नई दिल्ली :14 अगस्त दरगाह हज़रत निज़ामुद्दीन स्थित ग़ालिब अकादमी में आल इंडिया उलमा मशाइख़ बोर्ड द्वारा पूर्व घोषित कार्यक्रम “एक शाम आज़ादी के परवानो के नाम” संपन्न हुआ. कार्यक्रम में बोलते हुए वर्ल्ड सूफी फोरम के प्रवक्ता और इस्लामिक स्कालर गुलाम रसूल देहलवी ने कहा कि जब हमारा देश गुलामी की बेड़ियों में जकड़ा हुआ था …

Read More »

जुनैद जैसी घटनाएं देश में सदियों से स्थापित धार्मिक भाईचारे को चोट पहुंचा रही हैं।

beef ban

हज़रत सय्यद मोहममद अशरफ किछौछवी राष्ट्रीय अध्यक्ष ऑल इंडिया उलमा व मशाइख बोर्ड  देश में धार्मिक जुनून बहुत ज्यादा बढ़ गया है और अल्पसंख्यकों को बुरी तरह परेशान किया जा रहा है। देश भर में साम्प्रदायिक और विशेषकर मुसलमानों के खिलाफ बढ़ती हुई घातक हिंसा की घटनाएं दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रहीं हैं. और ये सभी घटनाएं इस बात की ओर …

Read More »

इस्लाम में ईद की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि Historical Account of Eid

ईद

गुलाम रसुल देहलवी ईद एक इस्लामी त्योहार है जो शांति, दया, भाईचारे और सभी धर्म के अनुयायियों के बीच समानता का संदेश देता है। यह त्योहार हर साल रमज़ान के अंतिम में इस लिए मनाया जाता है ताकि तीस रोजों (उपवास) की समाप्ति की खुशी में रोज़ादार अल्लाह का शुक्रिया अदा करें। इसे गरीबों को सदक़ा और फ़ित्र (दान) बांटने …

Read More »

मुसलमान 8 बदलाव लाएं Muslim community requires these right reforms

WordforPeace.com मुसलमानों को अब कुछ बदलाव करना ही पड़ेंगे, सामूहिक:- 1. मस्जिदों को सभी के लिए आम करदे, जो बंदा आना चाहे आये, जिसे दुआ मांगना हो ख़ुदा से मांगे। सभी धर्म के लोगों के आने का इंतज़ाम हो। उन्हें जो सवाल पूछना हो इस्लाम या ख़ुदा या रसूल के बारे में उनके जवाब भी कोई समझदार इंसान दे। 2. …

Read More »

क्या मोरनी, मोर के आंसु से गर्भवती होती है? 1400 साल पहले हज़रत अली (अ) ने जवाब दिया था

क्या मोरनी, मोर के आंसु से गर्भवती होती है

By WordForpeace.com हज़रत अली अलैहिस्सलाम, पैगम्बरे इस्लाम के चचेरे भाई और दामाद हैं, उनका जन्म हिजरत से 23 साल पहले ( 601 ईसवी में) मक्का में काबे के भीतर हुआ था। चौथी सदी हिजरी में सैयद रज़ी नामक प्रसिद्ध धर्मगुरु ने उनके कथनों का संकलन प्रकाशित किया जिसे” नहजुलबलागा” कहा जाता है। यह हज़रत अली अलैहिस्सलाम के कथनों और भाषणों …

Read More »

तीन तलाक पर गुमराह करने की कोशिश

Teen Talak

सुप्रीम कोर्ट के समक्ष दायर अपने शपथ पत्र में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा है कि तीन तलाक कुरान से वैध एवं प्रमाणित है। ए रहमान तीन तलाक के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के समक्ष दायर अपने शपथ पत्र में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा है कि तीन तलाक कुरान से वैध एवं प्रमाणित है। इस दावे को …

Read More »