Tag Archives: www.wordforpeace.com

مجھے رہزنوں سے گلا نہیں تری رہبری کا سوال ہے: روہنگیا مسلمان اور مسلم ممالک

مرزا انوارالحق بیگ۔ ایک جنگل میں شیر کے  مرنے کے بعد  جانوروں نے سوچا کہ اب ہم شیروں  کی  حکومت سے بےزار آگئے ہیں،  جنگل کے دیگر جانوروں کو بھی موقع ملنا چاہے  ۔ اور  فیصلہ کیا کہ اگلا  بادشاہ  ایک بندر ہو گا۔ بندر بادشاہ نے ابھی تخت سنبھالا ہی تھا کہ ایک ہرنی فریاد کرتی ہوئی آ گئی۔ کہنے لگی کہ ”بادشاہ سلامت! آپ کے راج میں …

Read More »

Rohingya Muslims

Editorial by Maulana Wahiduddin Khan MAULANA WAHIDUDDIN KHAN walks us through the story of the Rohingya Muslims, who are fleeing Myanmar, in search of safe refuge From the ninth century,onwards, Arab and other traders have visited the Rakhine state, formerly Arakan, on the western coast of Burma (Myanmar), and in the early days, a group of them settled there.As a …

Read More »

राष्ट्रीय एकता में हिंदी का महत्व

वर्षा शर्मा भारत देश कई विद्याओं का मिश्रण है। उसमे कई भाषाओँ का समावेश है। सभी भाषाओँ में हिंदी को देश की मातृभाषा का दर्जा दिया गया था। हिंदी आज दुनिया में सर्वाधिक बोले जाने वाली भाषाओँ में से एक है। इसे सम्मान देने के लिए हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस और राष्ट्रिय एकता दिवस मनाया जाता है। …

Read More »

ईद उल अजहा(बकर ईद): बलिदान और त्याग का प्रतीक

ईद+उल+अजहा(बकर+ईद)

वर्षा शर्मा, वर्ड फार पीस ईद-उल -अज़हा मुसलमानों का एक प्रसिद्ध त्यौहार है जिसे बकरीद अथवा ईद-उल-कबीर के नाम से भी जाना जाता है. यह त्यौहार बलिदान अथवा कुरबानी का प्रतीक है. हर साल यह मुस्लिम माह ज़ुल हिज्जा के दसवें दिन मनाया जाता है. प्यार का दूसरा नाम बलिदान है। ईश्वर इब्राहिम के विश्वास, उनकी निष्काम भक्ति, प्रेम और …

Read More »

तीन तलाक़ पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला: रूढ़िवादी प्रथा को जड़ से खत्म करने की कोशिश

तीन तलाक़

वर्षा शर्मा Wordforpeace हम स्वीकार करें ना करें, कड़वी सच्चाई यही है कि मुसलमानों ने तीन तलाक और हलाला जैसी ग़ैर-कानूनी और ग़ैर-कुरानी परंपरा को आस्था के नाम पर अपने समाज में फलने फूलने का भरपूर मौक़ा दिया। इस फैसले से सर्वोच्च न्यायालय ने पहली बार इस रूढ़िवादी प्रथा को जड़ से खत्म करने का प्रयास किया है, जो एतिहासिक …

Read More »

Madrasatul Zahra: Regaining centre for the lost Muslim antique and prosperity

Shammas Aboobacker, WordForPeace Madrasatul Zahra Madrasathu Zahra of Said Nursi in modern context has a crucial role in shaping the lost dignity of Islam. Particularly, in offering both revealed and rational knowledge, it has acted as a centre marking return to the medieval splendor of Islam. Similarly and most notably, Da’awa colleges in south India especially Kerala, as a synonymous …

Read More »

The ideological encounter of Islamic violent Extremism on Sufism

for www.WordForPeace.com N.Muhammed Khaleel Email: mhdkhaleelaky@gmail.com   In the Muslim discourse on terrorism, for a last couple of years, the matter more debated is why the terrorism [or Islamic violent extremism (IVE)in a broader concept] Sufism  as the focal point of its attack. Taking the statistics of terrorist attacks for the last 5 years it could be noted that many …

Read More »